सक्ती शहर की हर गली और रास्ते पर आवारा कुत्तों का आतंक…  *सुबह वॉक करना भी हुआ मुश्किल…

सक्ती शहर की हर गली और रास्ते पर आवारा कुत्तों का आतंक…
 *सुबह वॉक करना भी हुआ मुश्किल…
सक्ती । नगर के गली मुहल्लों में आवारा कुत्तों का आतंक दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। शहर में कई स्थानों पर अक्सर आवारा कुत्तों के झुंडों को बैठे देखा जा सकता है। सर्वाधिक परेशानी नगर के वार्ड 8 संतोषी मंदिर हटरी के पास हो रही है जहां आलम यह है कि आवारा कुत्तों से परेशान होकर लोग सुबह व देर रात को घरों से निकलने से भी कतराने लगे हैं। वार्ड 8 में आवारा कुत्तों का आतंक देखने को मिल रहा है। वैसे हम आए दिन कुत्तों के हमले में घायल होने की खबर सुनते हैं। कहीं आवारा कुत्ते बच्चों को अपना निशाना बनाते हैं, तो कभी वह वाहन से जाने वालों पर हमला कर देते हैं। सक्ती नगर के बस स्टैंड, कोर्ट, अस्पताल रोड, संतोषी मंदिर, स्टेशन रोड आदि जगहों पर आवारा कुत्तों की भरमार है। ये आवारा कुत्ते अक्सर आने-जाने वाले लोगों पर झपट पड़ते हैं कई बार ये आवारा कुत्ते एक दूसरे कुत्ते से लड़ते-लड़ते बीच सड़क में भी आ जाते हैं। जिससे दोपहिया वाहन चालकों का इनमें उलझकर गिरने का खतरा बना रहता है। कई बार ये लोगों की बाइक या कार के पीछे पीछे भागते हैं।
*आवारा कुत्तों पर नगर पालिका प्रशासन का नहीं है ध्यान…....इस सबके बावजूद भी नगर पालिका प्रशासन इन कुत्तों की समस्या से निजात दिलाने के लिए कोई विशेष कदम नहीं उठा रहा है, यूं तो कुत्ते को सबसे वफादार जानवर माना जाता है, लेकिन अगर यह वफादारी भूल जाए तो जानलेवा हो सकता है सक्ती शहर के अंदर ऐसी कोई गली और मोहल्ला नहीं जहां आवारा कुत्तों का आतंक न हो। शाम ढलने के बाद शहर के गली-मोहल्लों में पैदल या दुपहिया पर निकलना खतरे से खाली नहीं दोपहर में भी ये कुत्ते बच्चों को निशाना बनाने से नहीं चूकते। सक्ती शहर के विभिन्न सड़कों और मोहल्लों में इन कुत्तों का खौफ इस कदर छाया हुआ है कि लोग रात तो रात दिन में भी इनके झुंड को देखकर रास्ता बदल लेने में ही गनीमत समझते हैं। कुत्तों के आतंक से स्कूल जाने वाले छोटे बच्चों को सबसे अधिक खतरा है। नागरिकों ने पालिका प्रशासन से मांग करते हुए कहा की जल्द से जल्द इन आवारा कुत्तों की समस्या से निजात दिलाने के लिए ठोस से ठोस कदम उठाया जाए।
                  ————————————————————–

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button