छत्तीसगढ़शक्ति

भारत के भाग्य का नया सूर्योदय है राम मंदिर का निर्माण… *💥राम मंदिर का फ़ैसला भारत वासियो, राम भक्तों के आत्मसम्मान की जीत का फ़ैसला – — अंकित अग्रवाल….

*भारत के भाग्य का नया सूर्योदय है राम मंदिर का निर्माण…

*💥राम मंदिर का फ़ैसला भारत वासियो, राम भक्तों के आत्मसम्मान की जीत का फ़ैसला – — अंकित अग्रवाल….

सक्ती l 22 जनवरी को प्रभु श्री राम की प्राण प्रतिष्ठा को लेकर पूरे भारत वर्ष में उत्साह का वातावरण दिखाई दे रहा है वही सक्ती नगर वासियो में उत्साह देखने को मिल रहा है
इसी बीच भाजपा नेता अंकित अग्रवाल ने हर्ष व्यक्त करते हुए कहा कि अयोध्या में श्री राम मंदिर का पुनर्निर्माण और प्रभु श्री रामलला की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा मात्र एक धार्मिक आयोजन नहीं है बल्कि यह भारत के भाग्य का नया सूर्योदय है।भारत देश का नेतृत्व कर रहे देश के यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने भारत वासियो राम भक्तों के आत्म सम्मान के विजय पताका को पूरे विश्व में लहराने का कार्य किया है ये हमारा सौभाग्य है कि हम अपने जीवन काल में प्रभु श्री राम के जन्म भूमि आयोध्य में राम लला के दर्शन कर पायेंगे ।राम भारतीय संस्कृति के प्रेरणा पुरुष हैं। एक आदर्श राजा, आदर्श पुत्र, आदर्श भाई, आदर्श पति, आदर्श मित्र हैं। हम भारतीय जिन सात्विक मानवीय गुणों को सदियों से पूजते आए हैं, वे सभी राम के व्यक्तित्व में निहित हैं। इसीलिए श्री राम, मर्यादा पुरुषोत्तम हैं और हमारी आस्था के केंद्र में हैं, हमारे चेतन-अवचेतन मन में हैं और चिर काल से इस देश के मानस में बसे हुए हैं। आगे अंकित अग्रवाल ने कहा कि यहाँ राम सब के हैं और सब राम के हैं। चाहे पूरब हो या पश्चिम, उत्तर हो या दक्षिण, राम हमारे मानस में समाये हुए हैं। देश के किसी भी हिस्से में जाएँ, आपको लोगों के नाम में राम मिलेगा – दक्षिण में रामय्या, रामचन्द्रन या रामनाथन हो या उत्तर में रामशरण, राम सिंह या रामदास, राम सभी में हैं। सुबह की राम राम से लेकर जय सिया राम और जय श्री राम हमारे लिए अभिवादन और अभिनन्दन हमारे व्यवहार में समाहित हैं।निस्संदेह राम मंदिर का निर्माण भारत के लिए एक ऐतिहासिक, सांस्कृतिक, और धार्मिक घटना है जो देश को एकता, सांस्कृतिक समृद्धि, और सच्चे धर्मिक मूल्यों की दिशा में एकाग्र कर रही है। नव-निर्मित मंदिर ने भारत के सांस्कृतिक और धार्मिक विवादों को सुलझाने का एक अप्रतिम उदाहरण स्थापित किया है जो भविष्य में देशवासियों को परस्पर सद्भाव के साथ आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करेगा। हमें पूर्ण विश्वास होना चाहिए कि राम मंदिर का निर्माण भारत के लिए एक नए युग का प्रादुर्भाव करेगा जो देश को सांस्कृतिक एकता, भ्रातृत्व, और समरसता की दिशा में आगे ले जायेगा।

—————————————————————————-

#

#

#

#

#

#

#

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button